Menu

VelaWrites

राष्ट्रपति उम्मीदवार

2017-06

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

POETRY

 

अब तो राष्ट्रपति उम्मीदवार का नाम भी राम हो गया है|

भाजपा को लगता है, राम मंदिर का आधा काम हो गया …

Read more

गरीबी और मजबूरी

2017-06

गरीबी और मजबूरी में पति-पत्नी का वार्तालाप

इमेज सोर्स: पत्रिका न्यूज़| 

करते-करते काम थके, मजदूर हो गये।
टूटा आँखों का सपना, मज…

Read more

दुखद।

2017-06

मंदसौर की घटना दुखद।
किसानों की हालत दुखद।
सालों-साल की अनदेखी दुखद।
शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा दुखद।
गुस्सा और उससे निपटने का तरीका द…

Read more

केजरीवाल का हुतूतूतू

2017-05

Poetry/Satire 

 

इमेज सोर्स: टाइम्स ऑफ़ इंडिया

 

बहुत फायदे थे मिश्रा जी के इल्ज़ामो के,

बहुत दिनों से सब बचे है केजरीवाल के इल्ज़ामो से| …

Read more

आम आदमी और खास आदमी

2017-05

कविता 

खुदा की खुदाई ये नदिया ये सागर, बाकी सब है गलतफहमी।
सिखाती सभी को प्रकृति आदर, आया कहाँ से ये खास आदमी?

साज-ओ-स…

Read more

एक विरासत - पगड़ी

2017-05

एक विरासत - पगड़ी

भारतीय जन मानस में पगड़ी जाने कब, क्यों और कैसे धारक के प्रतिष्ठा का प्रतीक बन जाती है। अपनी इज़्ज़त को वह उससे और उसकी बेइज्जती को अपने आप से जोड़ देता है। निर्जीव कपड़े से बनी अपनी जगह के नाते सिर का प्रतीक बन जाती है। ध्यान आयीं महापुरुषों द्वारा धारण की ज…

Read more

जगत

2017-04

चाह इस लौकिक जगत से,
सम्मान मानव को मिले।
सम्मान हो कण-रश्मि का,
उत्थान मानव को मिले।
नित निरंतर हाँथ सब,
छूने बढ़ें उस शीर्ष को।…

Read more

दवा का असर

2017-04

कुछ पक्तियाँ यथार्थ स्थिति से व्यथित मन के उद्गार स्वरूप लिखा था।
इतनी कटुता और व्यक्तिगत प्रहार इस चुनाव प्रचार में हो रहा है, मुझे डर है कितना मनभेद बन जायेगा और देश का क्या होगा?…

Read more

एक समाज ऐसा हो|

2017-04

Read more

आवाज़

2017-04

POETRY 

कुछ तन्हाई के पलो में लिखी चंद जज़्बात  पुराने दोस्तों को याद करते हुए| 

Read more

View older posts »

Vela #

111092

Search on Velawrites

Topics