Menu

वेलो की घूमती बातें|

कुछ तो लोग लिखेंगे|

फिर भी वो नए ज़माने के भगवान् है

2017-10

तमाशा ये जो आम है 
कहाँ है जो राम है?
हिन्द में कोहराम है| 
भक्ति के नाम पर गुंडागर्दी आम है|

संजीदा ये घमसान है| 
ज़िंदा ल…

Read more

कतरे कतरे में भगवान बस्ते हैं|

2017-08

मामूली नहीं, तू भी है तो कसाब|

2017-08

गाय हमारी माता है| 
लालू ने खाया चारा है| 
गोरक्षको ने मचाया कोहराम है| 
बचाने वालो के मुँह में बस राम है|

खून खराबा सब आम है| …

Read more

आये तो जाना

2017-07

आये तो जाना मुकाम आ गया,
दुनियादारी में जाना कि ग्यान आ गया।
बहुत देर कर.दी समझ आते- आते,
उससे पहले मेरा इमतिहान आ गया।…

Read more

घूमती सी धरती

2017-07

घूमती सी धरती पर घूमते रहे हैं,
ठहरा हुआ जानकर झूमते रहे हैं।
पुतला पंचतत्व का सांस के सहारे पर,
झूठ के घमंड में ही भूलते रहे हैं।…

Read more

जो दिल्ली में अपना बना आशियाँ

2017-07

जो दिल्ली में अपना बना आशियाँ,
न जमीं ही मिली न मिला आसमां।
क्या शिकवा करुं बेरहम इस जगह से,
न पाया था दो गज जो सदर-ए-जहाँ।…

Read more

छोड़ रास्ते इंसानियत के

2017-07

छोड़ रास्ते इंसानियत के जो हैवानियत पूजते हैंं,
कुरेदकर पुराने जख्म जिगर का हाल पूछते हैं।
मार जो देते हैंं इन्सान को किसी भी इल्जाम पर,…

Read more

ध्यान हो इतिहास का

2017-07

ध्यान हो इतिहास का याद रख भूगोल को,
बर्बाद होते हैं किले जब न मानव मोल हो।
अवधेश

अनजान अच्छा..

2017-07

अनजान अच्छा जमाने की फितरत से,
इंसाँ हो, इन्साँ सी नीयत बची हो।
कि दुनिया तुम्हें जो सिखायेगी करतब,
न तुम ही रहोगे, न दुनिया बचेगी।…

Read more

प्यार

2017-07

Pyar zindagi me kuch logo ko bahut khas bana deta hain 
unke saath guzre har pal ko ek pyara ehsas bana deta hain
Mumkin hota hain har safar unka haath thame phir to
wo guzre har pal ko jehen me ek meethi yaad bana deta hain

Kehne ko bahut kuch hain par shayad bas ye itna hi karta hain
ye …

Read more

View older posts »

Vela #

153126

Search on Velawrites

Topics