Menu

वेलो की घूमती बातें|

कुछ तो लोग लिखेंगे|

Powered By Google.

केजरीवाल का हुतूतूतू

2017-05

Poetry/Satire 

 

इमेज सोर्स: टाइम्स ऑफ़ इंडिया

 

बहुत फायदे थे मिश्रा जी के इल्ज़ामो के,

बहुत दिनों से सब बचे है केजरीवाल के इल्ज़ामो से|

मिश्रा जी ने सबको केजरीवाल का साथी कर दिया है|

मिश्रा जी ने केजरीवाल का हुतूतूतू कर दिया है|

 

बधाई के पात्र है, एक अध्भुत कारनामा उन्होंने किया है|

केजरू के मुह में, ३२ नंबर पान जो उन्होंने ठूस दिया है|

सबमे हुनर कहा था, जो केजरीवाल को खामोश कर दिया है|

मिश्रा जी ने केजरीवाल का हुतूतूतू कर दिया है|

 

मोदी जी को भी हिचकी अब थोड़ी कम आने लगी है|

केजरीवाल के जेहन में मोदी की जगह मिश्रा जी की बातें आने लगी है|

इन् बातो ने सारी पार्टी को परेशान कर दिया है|

मिश्रा जी ने केजरीवाल का हुतूतूतू कर दिया है|

 

समाचार पत्रों में केजरीवाल की जगह मिश्रा जी छाए हुए है|

इलज़ाम मोदी की जगह केजरीवाल पर जो लगाए गए है|

सभी पत्रों ने अब केजरीवाल को मुजरिम कर दिया है

मिश्रा जी ने केजरीवाल का हुतूतूतू कर दिया है|

 

रोज़ एक नया इलज़ाम, है मिश्रा जी ने ये क्या मंज़र कर दिया है?

गुरु को गुरु-दक्षिणा में ये क्या नज़र किया है?

बेतुकी बयानो में मिश्रा जी ने केजरीवाल को भी पीछे कर दिया है|

मिश्रा जी ने केजरीवाल का हुतूतूतू कर दिया है|

 

पंडित मिश्रा की ने पंडिताई का भरपूर नमूना दिया है|

बिना हवन उन्होंने केजरीवाल के राहु काल को आमंत्रित किया है|

ईमानदार बताने वालो को कट्घरे में खड़ा कर दिया है|

सारांश है! मिश्रा जी ने केजरीवाल का हुतूतूतू कर दिया है|

 

 

 

 

 

 
ये लेख सिर्फ मज़ाक के तौर पे लिखा गया है। इसका सत्य घटनाओ से कुछ लेना देना नहीं है। यदि ये आपकी भावनाएं आहत करता है तो आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर सीधे हाथ पे ऊपर की तरफ कांटे का निशान है, कृपया करके उसे दबाये और इस लेख से मुक्ति पाए।

 

 

Go Back

Comment