Menu

VelaWrites

Powered By Google.

अनजान अच्छा..

2017-07

अनजान अच्छा जमाने की फितरत से,
इंसाँ हो, इन्साँ सी नीयत बची हो।
कि दुनिया तुम्हें जो सिखायेगी करतब,
न तुम ही रहोगे, न दुनिया बचेगी।
अवधेश

Go Back

Comment