Menu

Vela Writes

PageViews:

223376

जो मैंने देखा

 

यह वो आइना हैं, जो दिखलाता हैं सब जो मैंने यहाँ देखा 
ये वो हाल-ए-दिल बताता हैं, जो मैंने यहाँ देखा. 
 
साथ मेरे दुनिया का एक अक्स देखना हो तो चलो,
देख लो मेरी आखों से, जो भी मैंने देखा हैं।
 
हाल बदलते हैं यहाँ हालात बदलते हैंa
हर मोड़ पर उम्र के फलसफे बदलते हैं. 
 
इन्ही तब्दीलियों के साथ मेरा जीवन मुझे यहाँ तक लाया 
शुक्र हैं ऊपर वाले का जो मुझे हर दिन कुछ नया सिखाया  
 
अब इन सीखों को दिल करता हैं, कोरे कागज़ों पर स्याही से बिखेरूं 
और तुम्हे दिखलाऊ, मैंने  ज़िन्दगी को जिस नज़र से देखा 
 
आइना अपने सामने से अब तुम्हारी और घुमाया हैं,
कोरे कागज़ों पे उतारा, जो मैंने देखा हैं. 

Go Back

Comment