Menu

VelaWrites

Powered By Google.

जानिए सॉफ्ट शेर यादव से, परिवारवाद में लिप्त दल समाजवादी कैसे हुआ। 

2017-04

SATIRE / FAKE NEWS

बहुत उथल पुथल जो मच रही है आजकल उत्तर प्रदेश की राजनीती में, उससे यहाँ का राजनीतिक समीकरण काफी उलझ सा गया है। जिन्होंने जीतने की उम्मीद छोड़ दी थी उन्हें मौका मिल गया है। ये सब हुआ समाजवादी पार्टी में मचे अन्तर्द्वन्द से।

चाचा भतीजा की लड़ाई जिसमे भाई भाई, माँ भाई, बाप बेटा और जिसने भी अपना कालेज पीटा, सबको आमने सामने खड़ा कर दिया है। ये कयास लगाए जा रहे है की बेटा नयी पार्टी बना सकता है, भाई भी नयी पार्टी बना सकता है, दूसरी बीवी की पहली औलाद भी नयी पार्टी बना सकता है। पर सवाल है की इन सबके बीच समाजवाद आखिर है तो है कहाँ। हमारे संवाददाता ने बात की पार्टी बनाने वाले सॉफ्ट शेर यादव एक ऐसी प्रेस कांफ्रेंस में जिसमे सिर्फ हमारे पत्रकार पहुचे। 

 

 

Interview:


पत्रकार: राम राम सॉफ्ट जी 

SSY: कैटो बोल लाहे हो, सॉफ्ट न है हम जी, मुलायम है 

पत्रकार: वो छोड़े, ये बताये, क्या चल रहा है आजकल आपके दल में। 

SSY: अरे वा ता सफाई ले बाद हमली लोगो को कोई काम नहीं होला न, इसीलिए उछाल कूद मचाते रहते है। अगला सफाई आते ही सब ठीक हो जायेगा। 

पत्रकार: सफाई?

SSY: सैफई, झठू, सैफई। 

पत्रकार: पर आपकी पार्टी किसके नेतृत्व में अगला चुनाव लड़ेगी 

SSY: हमले 

पत्रकार:हमले ?

SSY: हामले। हमारे। पिंडी बहुत जगजोर ले तुम्हारी। 

पत्रकार: पर सर की, परिवारवाद में लिप्त पार्टी तो समाजवाद से कोसो दूर है?

SSY: अरे खाटू, है तो समाजवाद ही पर परिवार इतना बड़ा है की अपने में समाज है। और इन्ही की देख रेख में बढ़ती आबादी की देख रेख को बनायीं अपनी पार्टी समाजवादी पार्टी है। 

जय हो। 

 

 

 

 

 

 

 

 

ये लेख सिर्फ मज़ाक के तौर पे लिखा गया है। इसका सत्य घटनाओ से कुछ लेना देना नहीं है। यदि ये आपकी भावनाएं आहत करता है तो आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर सीधे हाथ पे ऊपर की तरफ कांटे का निशान है, कृपया करके उसे दबाये और इस लेख से मुक्ति पाए।

Go Back

Comment