Menu

वेलो की घूमती बातें|

कुछ तो लोग लिखेंगे|

Powered By Google.

राहुल गाँधी ने किया गुजरात भाजपा के चुनाव प्रचार का श्री गणेश| भाजपा की जीत तय

2017-05

SATIRES/FAKE NEWS 

गुजरात: राहुल गांधी ने गुजरात में चुनाव का श्री गणेश किया और कहा हम `भाजपा को हारने आये है|  भाजपा वालो ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है की शुक्र है की वो आये है वरना हमे तो लगा था की उत्तर प्रदेश के बाद वो नहीं आएँगे और हमारे 2019 की साड़ी योजनाएं विफल हो जाएंगी| मोदी जी ने अपने नेताओं को साफ़ साफ़ कह दिया है की उनका मज़ाक नहीं उड़ाए| उनकी हर बात का जवाब सभ्यता से दिया जाए| किसी भी हाल में 2019 के चुनाव से पहले कांग्रेस उनको न हटा पाए, ये सुनिश्चित करना अब भाजपा का काम है| इसी के साथ उन्होंने अपने कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को दोबारा दोहराया|

(तस्वीर में: राहुल गांधी गुजरात में भाजपा का चुनावी प्रचार शुरू होने का बिगुल और कांग्रेस की पुंगी बजाते हुए.

इमेज सोर्स: TimesofIndia)

 

उत्तर प्रदेश में हुए चुनावो के बाद भाजपा के खेमो में भरी सनसनी सी मच गयी थी| सबको लगा था की अब 2019 के चुनाव कहते में पड़ चुके है| कांग्रेस किसी भी वक़्त राहुल से पल्ला झाड़ लेगी| इतने बड़े स्टार कॉम्पैग्नर को खोने का डर भाजपा के नेताओ में साफ़ दिखने लगा था| अमित शाह जहाँ भी जाते थे सबको 2019 की तैयारी के लिए कहते थे| बिना राहुल गाँधी के ये काम खुद राजनीती के चाणक्य को कठिन लगने लगी थी| पर जैसे ही राहुल गाँधी गुजरात में चुनावी बिगुल बजने पहुंचे, भाजपा के नेताओ की खोयी मुस्कान लौट आयी है| अमित शाह ने अपने कार्यकर्ताओ को 2019 की तैयारिओं में ढिलाई बरतने को कहा है| चूँकि अब राहुल मैदान में है, तो कांग्रेस मुक्त भारत का जो सपना है वो तो पूरा हो ही जायेगा| साथ ही गुजरात इलेक्शन में जीत भी लगभग तय मानी जा रही है|

 

भाजपा ने अपने कार्यकर्ताओ को राहुल गांधी की रैलियो में संख्यां बढ़ाने के लिए कहा है| साथ ही उनका मनोबल बढ़ाने के लिए राहुल राहुल के नारे लगते रहने के लिए भी कहा गया है|

 

जैसे की हम जानते है, अपने नेताओ को भाजपा ने पहले भी राहुल गांधी के लिए करवा-चौथ का व्रत रखवाया था| भाजपा वाले कांग्रेस की तरह नहीं, जो राहुल गांधी की कदर न समझे| प्रशांत किशोर के सारे प्रयास भी असफल साबित हो रहे है|

 

सुनने में आया है की कांग्रेस यहाँ भी उत्तर प्रदेश की तरह शीला दीक्षित का नाम CM उम्मीदवार के तौर पर लोगो के सामने रख सकती है| इससे आखिर किसी और का राजनीतिक करियर ख़राब होने से बचाया जा सकता है|

 

गौरतलब है की इससे पहले मोदी जी और अमित शाह जी भी गुजरात में प्रचार करना शुरू कर चुके थे पर उससे श्री गणेश का दर्जा नहीं दिया गया| पर अब राहुल गांधी जी के चरणकमल गुजरात में पड़ते ही, भाजपा के लिए चुनावो का श्री गणेश हो चूका है|


 

 

Go Back

Comment