Menu

वेलो की घूमती बातें|

कुछ तो लोग लिखेंगे|

Powered By Google.

पंजाब में कुमार विश्वास से निपटने का ये प्लान बनाया है मोदी ने!

2017-02

Narendra Modi swag like Yo Yo Honey Singh\

फोटो: कविता के बाद मोदी यो यो हनी सिंह की राह पर चलकर रैप के पैतरें भी अपनाएंगे।

भाजपा की आंतरिक जांच समिति ने निर्णायक तौर पे ये बताया है के दिल्ली चुनाव में हारने में मुख्य कारण कुमार विश्वास का प्रचार था। जैसे जैसे उनके शेर लोगो के दिल में उतरते रहे, वैसे वैसे आपियो के मत (वोट्स) भी। नरेंद्र मोदी ने अब पंजाब में आप भी बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए इसका ये सामाधान निकाला है।

 

 

अमृतसर: कुमार विश्वास की कविताओं से निपटने, या ये कहें कि आम आदमी पार्टी को पंजाब में हराने के लिए ये फैसला हुआ है कि जहाँ भी ‘आप’ से लड़ाई होगी, वहां बातें सिर्फ कविताओं में होगी। आपकी तुम्हारी नज़र में पेश है, पहली ऐसी चुनावी रैली, जिसका स्क्रिप्ट खुद मोदीजी ने तैयार किया है-

भारी अभिवादन के बाद नरेंद्र मोदी ने माइक थामा, और जैसा कि निर्णय हुआ था, एक कविता समर्थको के ऊपर फेंक के मारा।

 

मित्रों,

मुझे पता है, सवाल बड़ा है,मित्रों,

जाने क्या है, पर ये बवाल बड़ा है।

(अमित शाह बोले वाह वाह)

इस राज्य में कोई विकास नहीं हुआ हैं।

(पीछे से आवाज़ आयी सर यहाँ हमारी ही सरकार है)

ये एक राजनीतिक साज़िश की उपजाई गलत धारणा है,
देखिये विकास यहाँ चारो तरफ पनपा है,
जो वादा किया था वो हमने निभा के दिखा दिया है।

पहले अपने झूठे वादों को गुरु ग्रन्थ साहब के बराबर बोला,
फिर साफ़ बर्तनों को माजने का झूठा नाटक किया है।
सुना है इस शहर में चुनाव का शंखनाद हुआ
इसीलिए मोदी ने आपकी नज़र ये नज़राना पेश किया है।

सवाल है कि आप विकास चाहते है कि धरना,
हमे मत देना वरना बाद में शिकायत मत करना।
उनकी विफलताओं की सूची हिमालयों से भी ऊँची है,
यकीन न हो तो देखो उदाहरण दिल्ली समूची है।

(अमित शाह ने तालियां बजाते हुए वाह-वाह की झड़ी लगा दी)
(नीचे बैठी पब्लिक से आवाज़ आयी उड़ता पंजाब)

देखो ये आप भी जानते हो यहाँ कितना विकास हुआ है.
आपने अपनी तरक्की की गति को “उड़ता पंजाब” कह के संभोदित किया है।

(स्टेज के पीछे बैठे ४ लोग जो धुंआ उड़ा रहे थे ,की ओर इशारा करते हुए शाह बोले -मोदी जी ये धूम्रपान के बड़े भाई की बात कर रहे थे )

(नरेंद्र मोदी के पास जवाब न होने के कारण उन्होंने माइक अमित शाह को पकड़ा दिया। अमित शाह ने आते ही कविता को आगे बढ़ाया)

गलत बातो पर हमारा विरोध किया जा रहा है.
हमने तो सिर्फ मदिरा बांटी, धूम्रपान में हमारा हाथ कहाँ है।

(भक्तो की भारी तालियों के बाद रैली को खत्म किया गया। लय नहीं बन पायी इसलिए इस कविता से भारत माता की जय को शामिल नहीं किया गया है। हमारे संवाददाता ने भाजपा की बदली रणनीति पर कुमार विश्वास से बात की। उन्होंने दो पंक्तियों के साथ हमसे विदा ले ली।)

ये आधी पौनी, टेढ़ी मेढ़ी कविता से क्या बदल देगे,
हम तो छीकते भी हैं, तो लहजा शायराना होता है।

Go Back

वाह क्या बात है ,,,,,,गज़ब प



Comment