Menu

VelaWrites

Powered By Google.

उत्तर प्रदेश में शर्तिया जीत के लिए चाचा चौधरी शाह का ये है चुनावी गणित?

2017-01

चुनावी रणनीति बनाने में अमित शाह का हाथ पकड़ना बहुत मुश्किल है। इसके दो कारण बताये जाते हैं, एक तो पल्ले नहीं पड़ती, दूसरी उनका हाथ बहुत मोटा है।

हर चुनाव में आमिर खान की तर्ज पर एक नया हथकंडा सामने लेकर रख देते हैं, और सबको दुविधा में डाल देते हैं। अब बात है पांच राज्यो की चुनाव रणनीति बनाने का। तो शेट्टी, माफ़ कीजियेगा, शाह भाई से अच्छा ये करता कौन है।

किरण बेदीजी आदरणीय अमित शाह जी से बधाई लेते हुएदिल्ली और बिहार के धमाकेदार जीत के बाद अपनी एक और चुनावी रणनीति को आजमाने यूपी में उतरेंगे शाह.



हाल ही के दिनों में प्रधान-मंत्री ने टीवी पर आने का वादा किया, पर किसी को ये नहीं बताया की क्यों आएंगे। हर महीने में दो बार मन की बात करने के इलावा कोई इससे ख़ास उम्मीद नहीं रख रहा था। लोग इसको चलते की बात समझ रहे थे। पर प्रधान मंत्री ने अपनी मित्रों भाषण क्रमांक- २६५ में कुछ ऐसा कहा कि लोगो की नींद उड़ गयी। वो ५०० और हज़ार के कड़क नोट जो हमारी ताकत थे, गले का जंजाल बना दिए गए।  काले धन वालों की तो मानो नींद तिजोरी में पड़े काले धन के भार के नीचे दब गयी।

फिर कुछ महान बैंको ने इस मुहीम पर पानी फेंक कर, काले धन वालो की नींद वापस लौटा दी। इनमे एक्सिस बैंक ने बहुत महान भूमिका लगायी। कांग्रेस पर काले धन का वार पड़ने की उम्मीदों के बीच भाजपा के कई नेता पकडे गए। दिक्कतों का हवाला देने वालो को सैनिको की दुहाई दी। इसी कड़ी में कई लोग वीर गति को प्राप्त कर गए, ऐसी खबरें भी मीडिया में थी।

फिर प्रधान मंत्री ने बोला कि वो ३१ दिसम्बर को टीवी पर आएंगे। लोगो को फिर नहीं पता था कि अब क्या होगा? पर इस बार लोग काम-धाम छोड़ कर टीवी के सामने बैठ गए। ऑनलाइन न्यूज़ वेबसाइट्स की भी चांदी हो गयी। TOI को सनी लियॉन की ख़बरों के इलावा भी कोई खबर छापने को मिल गयी। और इस 'मित्रों भाषण क्रमांक- २६६' में उन्होंने लोगो को कुछ खास नहीं सताया। लेकिन टीवी चैनल्स की TRP देखकर अमित शाह का दिमाग चाचा चौधरी हो लिया, और अब उन्होंने प्रचार करने का अनूठा तरीका निकाल लिया है।

इसके तहत मोदी के भाषण चुनावों तक हर १५ दिनों में कराये जायेंगे, और भाषण से पहले भाजपा के इश्तेहार दिखाए जायेंगे। वो उम्मीद करते हैं कि इस तरह वो अपनी बात लोगो तक आसानी से पंहुचा पाएंगे, और उत्तर प्रदेश में आखिरकार १४ साल के अज्ञातवास के बाद अपना परचम फिर से लहरा पाएंगे।

हमारे संवाददाता ने उनसे जानना चाहा की अगर लोगो ने मोदी जी का भाषण न देखा, या भूल गए फिर?

इसपर शाह जी बोले "हम पहले टीज़र रिलीज़ करेंगे, फिर ट्रेलर रिलीज़ करेंगे फिर भाषण आयेगा। हम मोदी जी के भाषण को हिंदी मूवी की तरह रिलीज़ करने का फैसला ले चुके है।

Go Back

Comment